मध्य प्रदेश पुलिस के अधिकारी का बड़ा दावा- २ April 'भारत बंद' के दौरान दंगा भड़काने के लिए पैसे का इस्तेमाल

भारत बंद के दौरान सबसे ज़्यादा हिंसा झेलने वाले मध्य प्रदेश में दंगे कराने के लिए मोटी रकम बांटी गई. ये खुलासा किया मध्य प्रदेश पुलिस ने किया है.

दावे की खास बात यह है कि दंगा भड़काने के लिए पैसा देने वालों में कई अफसर और कारोबारी भी शामिल हो सकते हैं. ये जानकारी राज्य के आईजी इंटेलिजेंस मकरंद देउसकर ने दिया है. मध्य प्रदेश में हिंसा में 8 लोग भारत बंद के दौरान मारे गए. हालात अब भी सामान्य नहीं हो पाए हैं और अभी भी ग्वालियर के 3 थानों में कर्फ्यू जारी है.

Top 10 List Of The Highest-Paid Celebrity In India - 2017

पुलिस अधिकारी के इस खुलासे के बाद से अब सवाल उठ रहे हैं क्या दलितों की ओर से किए गए 'भारत बंद' आंदोलन को क्या बाहरी तत्वों ने बदनाम करने की साजिश रची थी. ग्वालियर, भिंड और मुरैना जिलों में करीब 389 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. अब तक कुल 100 से अधिक लोगों को ग्वालियर पुलिस ने गिरफ्तार किया है. भिंड जिले मेंम 159 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. तीनों जिलों में अभी तक कोई घटना और नहीं हुई और धीरे-धीरे शांति बहाली हो रही है. 

ताजगी से भर देंगे आपकी सुबह, बस अपनाएं ये 5 टिप्स

गौरतलब है कि एसस/एसटी ऐक्ट में किए गए सुप्रीम कोर्ट से बदलाव के विरोध में दलित संगठनों ने 2 अप्रैल को भारत बंद बुलाया था. जिसमें कई राज्यों में बड़े पैमाने पर हिंसा हो गई थी. कई जगहों पर तोड़फोड़, आगजनी और मारपीट की घटनाएं सामने आई थीं और जिस तरह से इसमें आरक्षण ख़त्म ख़त्म करने का झूट फैलाया गया इस दावे से इंकार नहीं किया जा सकता 

NDTV