आप अंधेरे में यूज करते हैं स्मार्टफोन तो हो सकती है ये प्रॉब्लम

रिसर्च में यह साबित हुआ है कि अंधेरे में स्मार्टफोन इस्तेमाल करना खतरनाक है सिर्फ 30 मिनट स्मार्टफोन की स्क्रीन पर काम करना कितना खतरनाक हो सकता है।

दुनिया भर में अधिकतर लोग स्मार्टफोन का यूज करते हैं। लेकिन इनमें से कुछ ऐसे लोग हैं जो रात में सोने से पहले या अंधेरे में भी काफी देर तक स्मार्टफोन का पर काम करते हैं। जिसका आंखों और ब्रेन पर काफी बुरा असर पड़ता है। दुनिया भर में इसको लेकर कई रिसर्च और स्टडीज भी हो चुकी हैं, जिनमें यह साबित हुआ है कि अंधेरे में स्मार्टफोन की स्क्रीन पर काम करना कितना खतरनाक है। इन्हीं रिसर्च और स्टडीज के आधार पर हम बता रहे हैं अंधेरे में स्मार्टफोन यूज करने के 9 साइड इफेक्ट्स।

क्या कहती है रिसर्च?

अमेरिकन मस्कुलर डिजनरेशन फाउंडेशन की रिसर्च की माने तो, अगर हम रोज अंधेरे में 30 मिनट भी स्मार्टफोन की स्क्रीन पर काम करते हैं तो इससे हमारी आंखें ड्राय होने लगती हैं। आंखें ड्राय होने से रेटिना पर बुरा असर पड़ता है। लंबे समय तक यही रूटीन रखने से के कारण आंखों की रोशनी कम होने लगती है।

इसी तरह हार्वर्ड यूनिवर्सिटी और यूनिवर्सिटी ऑफ वरसेस्टर, इंग्लैंड की रिसर्च में भी साबित हो चूका है कि अंधेरे में स्मार्टफोन यूज करना घातक है। अगर समय रहते सावधानियां न बरती जाएं तो इसका सिर्फ आंखों पर बुरा असर नहीं पड़ता, बल्कि बॉडी के अन्य कई हिस्सों पर भी बुरा असर पड़ने लगता है।

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के रिपोर्ट के अनुसार अँधेरे में ज्यादा देर स्मार्ट फ़ोन इस्तेमाल करने से नींद देर से आने की प्रॉब्लम हो सकती है और इसका कारण शरीर में मेलाटोनिन हार्मोन का काम होने लगना बताया गया है 

मेलाटोनिन हार्मोन के काम होने से स्ट्रेस भी बढ़ने लगता है यह  यूनिवर्सिटी ऑफ वरसेस्टर, इंग्लैंड की रिसर्च में सामने आई है